Moral Stories in Hindi for Class 6 | Andha Aur Langda – अंधा और लंगड़ा

दोस्तों, आज जो कहानी सुनाने जा रहा हूं उसका नाम है Andha Aur Langda – अंधा और लंगड़ा। यह एक Moral Stories In Hindi For Class 6 का कहानी है….आशा करता हूं कि आपको बेहद पसंद आयेगा। तो चलिए शुरू करते है आजका कहानी Andha Aur Langda – अंधा और लंगड़ा।

Moral Stories in Hindi for Class 6 | Andha Aur Langda – अंधा और लंगड़ा

मेरी कहानी अंधों और अपंगों के बारे में है। एक बार एक गाँव में, विष्णु नाम का एक आदमी रहता था। वह एक पैर में लंगड़ा था। उसे घूमने या इधर-उधर जाने में कठिनाई होती। एक दिन उसे किसी काम के लिए पड़ोस के गाँव जाना पड़ा। लेकिन गाँव सचमुच बहुत दूर था। और सड़क भी पथरीली और गड्ढों से भरी थी। इसलिए उसे बहुत सावधानी और सावधानी से चलना पड़ा।

रास्ते में, विष्णु ने एक अंधे व्यक्ति को सड़क के किनारे बैठे देखा। वह धीरे-धीरे उस अंधे आदमी के पास गया। और उससे बात करने लगा। दोस्त, आपका नाम क्या है? – सूरदास ओके। मेरा नाम विष्णु है। कहाँ चलना है आपको? मेरे?

सुंदरवाड़ी के पड़ोसी गाँव को। मैं देखता हूँ। मुझे भी वहाँ जाना है। मुझे खुशी है। मुझे भी एक कंपनी मिलेगी। हाँ। देखो, मैं जो कहता हूं उसे ध्यान से सुनो।

मेरे पास एक योजना है जो हम दोनों के लिए उपयोगी होगी। मैं तुम्हें नहीं मिला क्या योजना है? देखो, मैं लंगड़ा हूं। इसलिए मैं ठीक से नहीं चल सकता। और आप देख नहीं सकते। अगर आप मुझे अपने कंधों पर ले जाने में सक्षम हैं …. तो मैं आपको रास्ता दिखा सकता हूं।

और तुम किसी से टकराओगे नहीं। – हाँ। और हमारी समस्याओं का भी ध्यान रखा जाएगा। सही? सोदास को यह योजना पसंद आई। उन्होंने विष्णु को अपने कंधों पर उठा लिया। और सूरदास विष्णु के निर्देश पर चलने लगे। इस तरह वे अपने गंतव्य तक पहुंचे। और सहयोग के साथ उनकी विकलांगता पर काबू पा लिया।

दोनों ने अपने जीवन को पहले से बेहतर और खुशहाल बनाना शुरू कर दिया। उन्होंने सहकारिता के साथ अपनी समस्याओं पर काबू पा लिया। और वे जल्द ही अच्छे दोस्त बन गए। एक दिन वे बाजार के लिए निकले। सोडा, वहाँ देखो।

मैं उस पेड़ के नीचे एक बंडल या कुछ देख सकता हूं। वास्तव में? – आइए देखें कि यह क्या है।

चलो चलते हैं। – चलो चलते हैं। किस दिशा में? – सही। चलो चलते हैं। दोनों पेड़ के पास पहुँचे। विष्णु जल्दी से सूरदास  के कंधों से उतर गया। और उसने उस गठरी को उठाया। जब उसने बंडल खोला तो वह दंग रह गया। वाह।

हे भगवान! क्या हुआ? – सूरदास , इस बंडल में …. इस बंडल में सोने के गहने हैं। क्या? तुम क्या कह रहे हो? – हाँ। दे। वह गठरी मुझे दे दो। महान। बिल्कुल नहीं।

सोने के गहनों के इस बंडल पर केवल मेरा अधिकार है। आपने क्या कहा? – बेशक। आप ही बताओ। अगर मैंने आपको इस बंडल के बारे में नहीं बताया होता …. तो आपको इसके बारे में कभी पता नहीं चलता। इसे मुझे दो। – इसे मुझे दो। इसे मुझे दो। दोस्त, अगर मैं तुम्हें इस गठरी में नहीं लाया होता …. तो क्या तुमने कभी इसे पाया होता? मुझे बताओ। इसे मुझे दो।

ALSO READ: Happy Man – Moral Stories For Kids – सुखी इंसान

इसे मुझे दो। गहनों के बंडल के लालच में …. वे आपस में लड़ने लगे। इसे मुझे दो। – इसे मुझे दो। इसे मुझे दो। – इसे मुझे दे दो। कोई भी बंडल पर अपना अधिकार छोड़ने के लिए तैयार नहीं था। इसे मुझे दो। – इसे मुझे दो। एक सज्जन उस क्षण से गुजर रहे थे। जब वह उन्हें लड़ता देखा तो वह उनके पास गया। उन्होंने कहानी के अपने पक्षों को समझा।

और उसने कहा। दोस्तों, आपको यह सोने का आभूषण एक व्यक्ति की आँखों से मिला है …. और दूसरे व्यक्ति के पैरों के साथ। इसलिए आप इस पर समान अधिकार रखते हैं। और हाँ। इस पर लड़ना बिल्कुल भी सही नहीं है। आपको ज्वेलरी का अपना हिस्सा मिलेगा। लेकिन इससे ज्यादा आपकी दोस्ती ज्यादा जरूरी है। क्योंकि आपको भविष्य में भी एक-दूसरे की आवश्यकता होगी।

विष्णु और सूरदास  को अपनी गलती का एहसास हुआ। उन्होंने सज्जन को धन्यवाद दिया। और आभूषण को दो समान भागों में विभाजित किया और इसे साझा किया। इस तरह उन्होंने अपनी दोस्ती बनाए रखी। वे जीवन भर अच्छे दोस्त बने रहे।

Video Credit: Aalishan kahaniya

तो इस कहानी से हम क्या सबक सीखते हैं? क्या सबक, दादाजी? – मै तुम्हे बताऊंगा। रुको। हमें एक दूसरे के साथ उचित तालमेल रखना चाहिए। और हमें हमेशा एक दूसरे की मदद करनी चाहिए। समझ गए, बच्चे?

तो दोस्तों “Andha Aur Langda – अंधा और लंगड़ा।” Moral Stories In Hindi For Class 6 आपको कैसा लगा? निचे कमेन्ट बॉक्स में आपके बिचार जरूर लिखके हमें बताये।

4.8/5 - (12 votes)

Leave a Reply

Your email address will not be published.