Auto Wala Police Officer ऑटोवाला पुलिस अफसर – Bedtime Stories

मोरल स्टोरीज इन हिंदी (Moral Stories in Hindi) में आपका स्वागत है। दोस्तों, आज जो कहानी सुनाने जा रहा हूं उसका नाम है Auto Wala Police Officer – ऑटोवाला पुलिस अफसर। यह एक Bedtime Stories का कहानी है….आशा करता हूं कि आपको बेहद पसंद आयेगा। तो चलिए शुरू करते है आजका कहानी Auto Wala Police Officer – ऑटोवाला पुलिस अफसर।

Auto Wala Police Officer ऑटोवाला पुलिस अफसर – Bedtime Stories

आप बड़े होकर क्या बनना चाहते हैं? बहुत समय पहले एक शहर में एक बड़ा स्कूल था। स्कूल में दूर-दूर से कई छात्र आते थे। उस स्कूल में गट्टू नाम का एक छात्र रहता था। गट्टू उस शहर में अपने माता-पिता के साथ एक छोटे से घर में रहता था… गट्टू के पिता ऑटोरिक्शा चलाते थे। वह प्रतिदिन अपने ऑटोरिक्शा से गट्टू को स्कूल छोड़ने जाता था।

एक दिन गट्टू के शिक्षक गंभीर रूप से बीमार पड़ गए। और वह कक्षा में नहीं आ सकती थी। जब यह बात प्रिंसिपल साहब को पता चली… तब वे खुद गट्टू की क्लास में गए और बोले। विद्यार्थी, आज तुम्हारी शिक्षिका अंजलि… बीमार होने के कारण विद्यालय नहीं आई है। इसलिए मैं उसके बजाय आज तुम्हें पढ़ाऊंगा। – ओके जी।

लेकिन आज हम कुछ नया करने की कोशिश करेंगे। क्या है वो प्रिंसिपल साहब? वैसे आप प्रतिदिन पाठ्य पुस्तकें पढ़ते हैं। इसलिए आज किताबें नहीं पढ़ेंगे। इसके बजाय, हम कुछ और करेंगे। ठीक है छात्रों,

बताओ। आप बड़े होकर क्या बनना चाहते हैं?

प्राचार्य महोदय का प्रश्न सुनकर सभी विद्यार्थी विचारशील हो गए।

फिर सब बोलने लगे। चिकित्सक। पायलट। फोजी। एसा नहीँ। कृपया एक-एक करके। इस कोने से शुरू करें। महोदय, मैं वैज्ञानिक बनूंगा। मैं डॉक्टर बनूंगा। सर, मैं पायलट बनूंगा… और प्लेन उड़ाऊंगा। गट्टू की बारी आई।

गट्टू, बड़े होकर क्या बनोगे? तब गट्टू जवाब देने के लिए खड़ा हुआ।

सर मैं ऑटो ड्राइवर बनूंगा। क्यों? आप ऑटो चालक क्यों बनना चाहते हैं?

क्योंकि मेरे पापा ऑटो ड्राइवर हैं। इसलिए मुझे भी ऑटो चालक बनना पड़ेगा। गट्टू का जवाब जानकर प्रिंसिपल साहब हैरान रह गए। और इससे पहले कि वह कुछ कहते, घंटी बजी और स्कूल खत्म हो गया। कक्षा समाप्त हुई। स्कूल खत्म होने के बाद भी प्रिंसिपल सर गट्टू के बारे में सोचते रहे। गट्टू की सोच गलत है।

मुझे उसका मार्गदर्शन करना होगा। पर कैसे? तब उसे एक विचार आया। अगले दिन भी जब टीचर नहीं आए तो प्रिंसिपल साहब क्लास में आ गए। छात्रों, आज हम नहीं पढ़ेंगे… बल्कि एक खेल खेलेंगे। मुझे खेल खेलने पसंद हैं।

सर, कौन सा खेल? इस गेम को “माई फेवरेट हीरो” कहा जाता है।

खैर, अब आप सभी मुझे एक-एक करके बताएं कि आपका पसंदीदा हीरो कौन है? हम यहीं से शुरुआत करेंगे। सर, मुझे रणबीर सिंह पसंद हैं। वरुण धवन। – सर, मुझे टाइगर श्रॉफ पसंद हैं। मुझे ऋतिक रोशन पसंद हैं। वह महान नर्तक हैं। सर, मुझे सलमान खान बहुत पसंद हैं।

“हम सभी का स्वागत स्वैग से करेंगे” “हम सभी का स्वागत स्वैग से करेंगे”

अब प्रिंसिपल सर ने गट्टू से पूछा। गट्टू, आपको कौन सा हीरो सबसे ज्यादा पसंद है? मेरे पसंदीदा शाहरुख खान हैं। लेकिन शाहरुख खान को हीरो नहीं बनना चाहिए था। लेकिन वह अभिनय में बहुत अच्छे हैं। हां, लेकिन उनके पिता एक वकील थे। और उन्होंने अपना खुद का रेस्टोरेंट भी खोल लिया था।

तो शाहरुख को दो विकल्पों में से एक को चुनना चाहिए था। वह गलती से हीरो बन गया। यह सुनकर गट्टू को गुस्सा आ गया। सर, अगर वह अभिनय में इतना अच्छा है… तो वह वकील क्यों बने। – हां। लेकिन उनके पिता एक वकील थे, है ना? यही उनके पिता की इच्छा थी। शाहरुख जो बनते हैं, वही उनकी ख्वाहिश होती है। गट्टू की बात पर प्रिंसिपल साहब मुस्कुराने लगे।

ओके गट्टू, आखिरकार आप समझ ही गए… मैं आपको समझाने की कोशिश कर रहा था कि… अगर तुम्हारे पापा ऑटो ड्राइवर हैं, तो इसका मतलब ये नहीं…तुम्हें भी ऑटो ड्राइवर बनना पड़ेगा। अब मैं चाहता हूं कि तुम किसी से मिलो। उससे मिला। वह श्री जगमोहन देसाई हैं। वह कभी ऑटो चलाते थे।

लेकिन आज उनका बेटा एक बहुत बड़े स्कूल का प्रिंसिपल है। प्राचार्य महोदय, क्या वह आपके पिता हैं? हाँ, वह मेरे पिता हैं। अब समझ में आ गया गट्टू? जिस तरह ऑटो ड्राइवर की जगह मैं प्रिंसिपल बना… वैसे ही आप भी अपनी मेहनत से कुछ भी बन सकते हैं। गट्टू को बात समझ में आ गई… प्रिंसिपल द्वारा उसे ध्यान से समझाने के बाद।

और उसने फैसला किया कि… प्रिंसिपल साहब, मुझे मिल गया है। अब मैं पुलिस वाला बनूंगा। इस तरह प्रिंसिपल ने गट्टू को समझाया कि वह कुछ भी बन सकता है… अपना और शाहरुख खान का उदाहरण देकर।

तो बच्चों, कहानी का नैतिक है… कि अगर हम कड़ी मेहनत करते हैं तो हम जो चाहें बन सकते हैं।

तो दोस्तों Auto Wala Police Officer – ऑटोवाला पुलिस अफसर Bedtime Stories आपको कैसा लगा? निचे कमेन्ट बॉक्स में आपके बिचार जरूर लिखके हमें बताये।

 – 

Leave a Comment